Home उत्तर प्रदेश फर्रुखाबाद : कोरोना को मात देकर पत्रकार सुमित गुप्ता ने जीती जंग

फर्रुखाबाद : कोरोना को मात देकर पत्रकार सुमित गुप्ता ने जीती जंग

31 second read
Comments Off on फर्रुखाबाद : कोरोना को मात देकर पत्रकार सुमित गुप्ता ने जीती जंग
1
71

-फर्रुखाबाद जनपद के कायमगंज निवासी वरिष्ठ पत्रकार सतीश गुप्ता के सुपुत्र वरिष्ठ पत्रकार सुमित गुप्ता मोना विगत 2 जुलाई से बुखार से पीड़ित हो गये थे।बुखार आने पर पत्रकार सुमित गुप्ता का कायमगंज के प्रमुख चिकित्सक द्वारा उपचार किए जाने पर काफी आराम भी मिला।

बुखार में आराम मिलने के उपरांत 8 जुलाई की रात में सुमित गुप्ता मोना की अचानक ही तबियत खराब हो गई और तबियत बिगङने पर तत्काल ही सुमित गुप्ता मोना को इलाज हेतु फर्रुखाबाद के प्रयागनारायन ट्रामा सेंटर ले जाया गया।

ट्रामा सेंटर के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ अरविंद गुप्ता ने सुमित गुप्ता मोना की हालत गम्भीर होने के कारण सुमित गुप्ता मोना की तत्काल ही कोरोना की जांच कराने एवं उसे तत्काल ही कानपुर ले जाने की सलाह दी।

कायमगंज के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में कोरोना की जांच हेतु सैम्पल देने के उपरांत सुमित गुप्ता मोना को इलाज हेतु कानपुर के विभिन्न प्राइवेट अस्पतालों में ले गए ।
लेकिन सुमित गुप्ता की गम्भीर हालत होने के कारण सभी निजी अस्पतालों ने मरीज को भर्ती करने से साफ मना कर दिया।

निजी चिकित्सकों द्वारा इलाज हेतु भर्ती किए जाने से मना कर दिए जाने पर सुमित गुप्ता मोना को कानपुर के गणेश शंकर विद्यार्थी मेडिकल कालेज ( हैलट ) में इमरजेन्सी में भर्ती कराया गया।

हैलट हास्पीटल के इमरजेन्सी में भर्ती के दौरान वहां कोरोना की जांच हेतु लिए गये सैम्पल की जांच 11 जुलाई को निगेटिव आ गई।
कोरोना की रिपोर्ट निगेटिव आने के उपरांत सुमित गुप्ता मोना को तत्काल ही हैलट हास्पीटल से लाकर कानपुर के प्राइवेट हास्पीटल न्यू जी टी नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया।

विभिन्न जांच एवं एक्स रे कराने के उपरांत उक्त अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ विनय गुप्ता सुमित गुप्ता की हालत विशेष गम्भीर बताते हुए हाई ट्रामा सेंटर में भर्ती करबाने की सलाह दी ।मरीज की हालत विशेष गम्भीर होने के कारण कई उच्च ट्रामा सेंटर में काफी प्रयास करने के उपरांत भी सुमित गुप्ता मोना को भर्ती करने से साफ मना कर दिया।

इसी दौरान 9 जुलाई को कोरोना की जांच हेतु कायमगंज में दिए गए सैम्पल की रिपोर्ट पाॅजिटिव आ जाने पर सुमित गुप्ता मोना के पिता सतीश गुप्ता यही नहीं समझ पा रहे थे कि कोरोना की दोनों रिपोर्टो में से कौन सी रिपोर्ट सही मानी जाये।

प्राइवेट हास्पीटल में इलाज के दौरान सुमित गुप्ता मोना की हालत में कोई सुधार न होने पर फर्रुखाबाद के कोरोना प्रभारी सहायक मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ राजीव शाक्य द्वारा कानपुर के गणेश शंकर विद्यार्थी मेडिकल कालेज के लिए रिफर कर दिए जाने पर 15 जुलाई को प्राइवेट अस्पताल से ले जाकर मेडिकल कालेज के कोविड-19 आइसोलेशन अस्पताल में सुमित गुप्ता मोना को भर्ती कराया गया।

मेडिकल कालेज में इलाज के दौरान हालत में काफी सुधार हो जाने पर चिकित्सकों ने अस्पताल से छुट्टी कर सुमित गुप्ता मोना को घर भेज दिया है।
विगत लगभग 21 दिनों तक जिन्दगी मौत से संघर्ष कर कोरोना को मात देकर जंग जीतकर वापस घर पहुंचने पर सुमित गुप्ता मोना के पिता सतीश गुप्ता, मां रजनी गुप्ता सहित सभी परिजनों के चेहरे खुशी से खिल गये।

वहीं घर पहुंचने पर सुमित गुप्ता मोना की मां रजनी गुप्ता द्वारा सुमित को तिलक लगाकर व आरती कर जोरदार स्वागत किया गया ।

Load More By upkibaat
Load More In उत्तर प्रदेश
Comments are closed.

Check Also

बीजेपी सांसद धर्मेन्द्र कश्यप की पत्नी कोरोना संक्रमित, फेसबुक पर पोस्ट कर दी जानकारी

दिल्ली ने बुधवार को COVID-19 के 17,000 से अधिक मामले दर्ज किए, जो देश की सबसे बुरी तरह से …