Home उत्तर प्रदेश विकास दुबे की मदद करने वाले नेता, पुलिस और व्यापारियों के नाम ईडी को मिले, शुरू हुई पूछताछ

विकास दुबे की मदद करने वाले नेता, पुलिस और व्यापारियों के नाम ईडी को मिले, शुरू हुई पूछताछ

0 second read
Comments Off on विकास दुबे की मदद करने वाले नेता, पुलिस और व्यापारियों के नाम ईडी को मिले, शुरू हुई पूछताछ
0
14

कुख्यात विकास के खास जय बाजपेई की अवैध सम्पत्तियों को लेकर ईडी ने जांच शुरू कर दी है। ईडी दफ्तर में पहुंचे एडवोकेट सौरभ भदौरिया ने अपने बयान दर्ज कराए। इस दौरान ईडी ने कई सूचनाएं लीं। अधिकारियों ने यह भी जानकारी दी कि जय ने खुद को बचाने के लिए अपराधिक मामलों में दर्ज रिपोर्ट में पिता का नाम गलत दर्ज कराया है। भदौरिया ने ईडी को जय से कारोबारी रिश्ता रखने वाले और विकास दुबे के साथ उसकी मदद करने वाले व्यापारियों, सफेदपोश और पुलिसकर्मियों के नाम भी दिए। इसमें 16 पुलिस कर्मचारी हैं व 16 में नेता, व्यापारी और उसके भाइयों के नाम शामिल हैं ।

सौरभ भदौरिया लखनऊ स्थित प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के दफ्तर पहुंचे। उन्होंने जय के खिलाफ दर्ज एफआईआर समेत अन्य दस्तावेजों की कॉपी सौंपी। ईडी के अधिकारियों ने एडवोकेट को बताया कि सन 2010 से 2016 के बीच जो अपराधिक मामले दर्ज हुए उनमें जय के पिता का नाम बब्बू बाजपेई लिखा हुआ है। जबकि उनका असली नाम लक्ष्मीकांत बाजपेई है। ईडी के अधिकारियों ने एडवोकेट को बताया कि ऐसा जय ने खुद को बचाने के लिए किया है। इसके बाद एडवोकेट ने जय और उसके गुर्गों की 17 सम्पत्तियों की सूची ईडी को सौंप दी। जिनमें सरकार को धोखे में रखकर राजस्व की हानि की गई।

कुछ सालों में करोड़पति कैसे हुआ जय 
ईडी के अधिकारियों ने एडवोकेट से पूछा कि जय इतने कम समय में करोड़पति कैसे बन गया। इस पर एडवोकेट ने 17 नामों की सूची सौंपी जिसमें जय के भाई समेत वह सभी सफेदपोश शामिल हैं। जिन्होंने जय के काले धंधे में पैसा लगाकर उसे करोड़पति बनने में मदद की।

एक अधिकारी समेत 16 पुलिस कर्मियों की भी होगी जांच 
ईडी को कुछ ऐसे दस्तावेज भी सौंपे गए हैं जिसमें एक अधिकारी समेत 16 पुलिस कर्मियों की सम्पत्तियों का भी ब्योरा दिया गया है। यह वह लोग हैं जिन्होंने जय के अपराधिक मामलों में उसे राहत देने का काम किया है। जिसके एवज में उन्हें किसी न किसी तरह से फायदा पहुंचाया गया है। इसपर ईडी के अधिकारियों ने एडवोकेट से यह भी पूछा कि जब जय बाजपेई के खिलाफ शासन में इतनी शिकायतें हुई तो उसके खिलाफ अब तक कोई ठोस कार्रवाई क्यों नहीं हुई। जिसपर एडवोकेट ने कुछ और प्रभावशाली लोगों के नाम बताए। एडवोकेट ने बताया कि गुरुवार को उन्हें एसआईटी ने फिर से पूछताछ के लिए बुलाया है।

Load More By upkibaat
Load More In उत्तर प्रदेश
Comments are closed.

Check Also

पुलिस ने की ताबड़तोड़ छापेमारी, मौके पर प्रत्याशी के भतीजे को किया गिरफ्तार, 2 पेटी शराब की बरामद

बदायूं से  रिंकू शर्मा की रिपोर्ट त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर थाना पुलिस अभियान चलाकर …